article193_4

इस मंदिर में खरोंच भी ना ला सके पाकिस्तान के 3000 बम , भारतीय सेना पर हैं माता तनोट का आर्शीवाद !

इंसान कितना भी आगे निकल जाएं लेकिन प्राकृतिक शक्तियों तक नही पहुँच सकता …… वो भी तब जब बात हो आस्था की….ये आस्था ही हैं जो लोगों की उम्मीदों को एक विश्वास के साथ जिन्दा रखती हैं….हो ना हो पर ’65 और ‘71 में पाकिस्तान की हार की वजह थी हिंदुस्तानी सैनिकों का जज़्बा और माता तनोट का आशीर्वाद….
article193_1
Source

जैसलमेर में भारत-पाकिस्तान सीमा के पास स्थित तनोट राय माता मंदिर में 1965 और 1971 की लड़ाई के दौरान पाकिस्ता‍न द्वारा कई बार बम फेंके गए लेकिन हर बार उसे असफलता ही हाथ लगी….
article193_2
Source

तो वहीं इस मंदिर में एक संग्रहालय है….जहां आज भी पाकिस्तान की तरफ से दागे गए जीवित बम यहां रखे हुए हैं…..
article193_3
Source

हालांकि यह मंदिर भारत ही नहीं बल्कि पाकिस्तानी सेना के जवानों के लिए भी आस्था का केन्द्र है….
article193_4
Source

तो वहीं यहां के लोगों का मानना है कि युद्ध में पाकिस्तान की हार की वजह तनोट माता का आशीर्वाद ही है…..
article193_5
Source

1965 की लड़ाई के समय पाकिस्तान की तरफ से गिराए गए करीब 3000 बम भी इस मंदिर को हिला ना सकें….तो वहीं मंदिर परिसर में गिरे 450 बम तो फटे भी नहीं….
article193_6
Source

1965 की लड़ाई में पाकिस्तानी सेना भारतीय सीमा में 4 किमी. तक अंदर घुस आई थी….लोकिन  भारतीय सेना ने जवाबी हमले में पाकिस्तानी सेना को काफी नुकसान पहुंचाया और पीछे हटने पर मजबूर कर दिया था…..
article193_8
Source

हालांकि अब ये मंदिर बीएसएफ के नियंत्रण में हैं….जिसमें रख-रखाव से लेकर पूजा की सारी जिम्मेदारी सीमा सुरक्षा बल के जवान ही संभालते हैं…
article193_9
Source



loading...